मानहानि क्या है ? Manhani Ka Dava Kaise Kare ? Manhani Act In Hindi

कही न कहीं कभी न कभी आपने Manhani Act के बारे में आपने जरुर सुना होगा | अक्सर हम अपने आसपास लोगों को मानहानि के बारे में बातचीत करते हुए देखते और सुनते हैं | जब भी हम किसी को मानहानि के बारे में बात चित करते हुए देखतें हैं | , तो हमारे दिमाग में एक सवाल जरुर आता है | कि मानहानि क्या है | ? और किसी व्यक्ति समुदाय या संस्था पर मानहानि का केस कब किया जा सकता है | ? वास्तव में हम सभी जानते हैं | कि किसी भी व्यक्ति, उतपाद, समहू, व्यापार, धर्म- राष्ट आदि की प्रतिष्ठा पर किसी भी प्रकार की हानि पहुचाने वाले आरोपों या असत्ये कथनो को मानहानि कहते है |

मानहानि क्या है ? Manhani Ka Dava Kaise Kare ? Manhani Act In Hindi

मानहानि क्या है ? Manhani Act In Hindi –

व्यक्ति गरीब हो या आमिर कोई भी हो हर व्यक्ति का अपना एक मान सम्मान होता है | सामाजिक प्रतिष्ठा होती है | और किसी भी अन्य व्यक्ति को यह अधिकार नहीं की वो किसी दूसरे व्यक्ति के मान सम्मान के खिलाफ कोई भी गलत कार्य करे किसी भी व्यक्ति दारा किसी दूसरे व्यक्ति, समहू, व्यापार, धर्म- राष्ट, उतपाद आदि की प्रतिष्ठा के खिलाफ कोई भी गलत आरोप या असत्य कथन का उपयोग करता है | जिससे उस व्यक्ति की छवि समाज में धूमिल होती है | तो उस व्यक्ति को हमारे संविधान में पूरा अधिकार है | की वो व्यक्ति उस व्यक्ति के खिलाफ क़ानूनी कार्यवाही कर सकता है | इसी प्रकिया को Manhani कहते है |

Manhani Act कितने प्रकार की होती है  –

मानहानि दो प्रकार की होती है –

लिखित रूप में या मौखिक रूप में –

जब किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा के खिलाफ कोई लिखित रूप में या प्रकाशित रूप में कोई गलत आरोप लगा |या जाता है | तो वह आपलेख कहलाता है |

जब किसी व्यक्ति के खिलाफ कोई अपमानजनक भाषण या कोई असत्य कथन कहा जाता है | जिससे उस व्यक्ति के प्रतिसभी के मन में कोई अपमान या घर्णा के भाव उत्पन हो तो वह अपवचन कहलाता है |

साइबर मानहानि –

आजकल का समय आधुनिक हो गया है | लोग डिजिटल होते जा रहे है | Manhani अब सिर्फ कुछ रूपों में न रह कर डिजिटल रूप भी ले लिया है | किसी भी प्रकार की सोशल नेटवर्किंग साइट जैसे फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब, आदि अन्य किसी भी साइट से किसी भी व्यक्ति समाज या समुदाय के लिए अपशब्दों का उपयोग करना साइबर मानहानि के अंतर्गत आता है |

साइबर Manhani में धाराएं –

सुचना प्रोद्योयोगिकी अधिनियम 2000 की धारा 66 ए के अंतर्गत कोई भी व्यक्ति सोशल नेटवर्किंग साइट से किसी की मानहानि करता है | तो उसे भारतीय संविधान की धारा 499 धारा 500 के अंतर्गत दोषी पाया जाएगा | और 3 साल की कैद या जुर्माना या दोनों सजा दी जाएगी

मानहानि में लागू धाराएं व सजा –

भारतीय संविधान प्रत्येक व्यक्ति को अपना मान सम्मान, प्रतिष्ठा, यश, आदि को सुरक्षित रखने का अधिकार देता है | यदि कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति के मान सम्मान, प्रतिष्ठा पर आरोप लगता है | तो भारतीय संविधान की धारा 499 धारा 500 के अंतर्गत अपराधी पाया जाएगा | तथा उसे निम्न धाराओं के अंतर्गत दंड दिया जा सकता है |-

1 . धारा 500 – इस धारा के अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति की Manhani करता है | उस पर झूठा आरोप लगता है | तो धारा 500 के अनुसार दोषी को 2 साल की कैद या फिर आर्थिक जुर्माना दिया जाएगा | लेकिन अपराध की गंभीरता के कारण अपराधी को कैद और जुर्माना दोनों भी दिया जा सकता है |

2 . धारा 501 – धारा 501 के अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति जानबूझ कर किसी अन्य व्यक्ति की मानहानि करता है | तो धारा 501 के तहत दोषी को 2 साल की कैद या आर्थिक जुर्माना या फिर कैद जुर्माना दोनों दिया जा सकता है |

3 . धारा 502 – यदि कोई आर्थिक उदेशय के लिए किसी की Manhani करता है | तो धारा 502 के अंतर्गत 2 साल की कैद या आर्थिक जुर्माना होता है | या दोनों सजा भी हो सकती है |

4 . धारा 505 – इस धारा के अंतर्गत कोई बी ऐसी गलत खबर या गलत जानकारी जिससे हमारे समाज में डर का माहौल उत्पन हो लोग सरकार के विरुद्ध हो किसी भी ऐसी गलत खबर तथ्ये को पेश करना जिससे भारतीय जल, वायु, स्थल, सेना में सैनिक, अधिकारी विदोह या बगा |वत करे किसी भी ऐसी गलत जानकारी जिससे समाज सरकार के विरुद्ध हो ऐसे सभी आरोपी वयक्तियो को धारा 505 के अंतर्गत दोषी माना जायगा | और 2 साल की कैद या जुर्माना दिया जाएगा | या अपराध की गंभीरता को देखते हुए दोनों सजा भी दी जा सकती है |

Manhani के अंतर्गत ना आने वाले तथ्ये –

हर तथ्य में हर व्यक्ति पर मानहानि का केस नहीं किया जा सकता यदि कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति के खिलाफ झूठा Manhani का मुकदमा करता है | तो हमारे संविधान में उस व्यक्ति के खिलाफ भी सजा का प्रावधान किया गया है |

1. किसी व्यक्ति का चीड़चिड़ा, पिछड़ा, अभद्र जैसा शब्दों से सम्बोधित करना या किसी व्यक्ति से लड़ाई झगड़े मानहानि के अंतर्गत नहीं आता है |

2. किसी अधिकारी व्यक्ति समाज द्वारा किसी अपराधी चोर व्यक्ति को आगा |ह करना Manhani के अंतर्गत नहीं आता |

3. किसी भी फिल्म, नाटक, पुस्तक, व्यक्ति, की आलोचनात्मक समीक्षा भी मानहानि के तहत नहीं आती |

4. कोई व्यक्ति समाज की भलाई के लिए किसी व्यक्ति पर आरोप लगता है | तो वह भी Manhani के अंतर्गत नहीं आता लेकिन उस व्यक्ति को ये साबित करना होगा | की उसने ये कार्ये समाज की भलाई के लिए किय है |

तो दोस्तों यह थी के बारे में आवश्यक जानकारी | ये जानकारी मात्र आपके लिए के बारे में सामान्य जानकारी है | आप किसी भी प्रकार का कोई एक्शन लेने से पहले किसी अच्छे वकील से जरुर सलाह ले | जिससे आपको और अधिक जानकारी मिल सके और सही समय पर सही कदम आप उठा सके | यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें साथ ही यदि आपका कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें |

1 thought on “मानहानि क्या है ? Manhani Ka Dava Kaise Kare ? Manhani Act In Hindi”

Leave a Comment